C Programming language कैसे सीखे

C Programming language कैसे सीखे

technology के बढ़ते जमाने में हर कोई व्यक्ति अपनी website या application बनाना चाहता है। लेकिन वेबसाइट application बनाने के लिए सी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के बारे में जानकारी होना जरूरी है।

हालांकि आज के समय पैकिंग के माध्यम से website और application बनाना काफी आसान हो गया है। लेकिन फिर भी कहीं न कहीं सी प्रोग्रामिंग language की आवश्यकता अवश्य होती है सी programming language के जरिए ही internet और technology का विकास हुआ है।

सी programming language को हर कोई व्यक्ति आ सकता है लेकिन सबसे मुख्य बात यह है कि प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को सीखने के लिए काफी मेहनत और लगन की आवश्यकता होती है।

इसीलिए यदि व्यक्ति सी programming language को सीखने में अपनी रुचि दिखाता है तो हर कोई व्यक्ति आसानी से इस लैंग्वेज को चेक कर अपना खुद का एप्लीकेशन या website internet पर बना सकता है।

यदि आप भी कंप्यूटर प्रोग्राम के बारे में और अधिक जानना चाहते हैं। या mobile application, website, game इत्यादि software बनाने में इच्छा रखते हैं। तो आपको सबसे पहले सी programming language के बारे में जानना जरूरी है।

mobile aplication- prgramming language

उसके पश्चात ही आप प्रोग्राम को क्रिएट कर पाएंगे। programming language के माध्यम से प्रोग्राम को बेहतर तरीके से किया जा सकता है। आज हम इस article में programming language क्या है और सी programming language के बारे में बात करेंगे।

C programming language क्या है

c programming language एक technology की भाषा है। जिसके माध्यम से वेबसाइट या application या अन्य कोई सॉफ्टवेयर बनाया जा सकता है। देश और application बनाने के लिए सी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की मुख्य तौर पर आवश्यकता होती है।

सी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के विनाश टेक्नोलॉजी का विकास अधूरा है। सी programming language को सीखने के लिए Compiler जरूरत पड़ती है

C programming कैसे सीखे

कंप्यूटर प्रोग्राम के बारे में बेहतर जानकारी लेने और website व application बनाने के लिए programming language का सीखना बहुत ही जरूरी है यदि आप भी programming language सीखना चाहते हैं तो नीचे दिए गए सभी स्टेप को ध्यान से पढ़ें।

अपने Area Of Interest को निर्धारित करे

programming language एरिया के हिसाब से अलग-अलग होती है इसीलिए सबसे पहले अपने रुचि के एरिया को निर्धारित करें। आप चाहे, तो कोई भी programming language सीख सकते हैं।

लेकिन सबसे पहले आप यह तय कर लें कि मेरे को कौन से एरिया में ज्यादा रुचि है। एरिया निर्धारित करने के बाद system programming को सीखने में काफी मदद मिलेगी।

हमेशा सिंपल लैंग्वेज से शुरुआत करें

जब सी programming language सीखने की शुरुआत करते हैं तो शुरू के दौर में आपको simple language को सीखना होगा। हाई लेवल language आप धीरे धीरे बाद में सीख जाएंगे शुरुआती दौर में simple language सीखें।

simple language की category में दो popular language है। पहली Python और दूसरी Ruby. यह दोनों ऑब्जेक्ट वेब एप्लीकेशन लैंग्वेज है. इनकी syntax readable होती है।

ऑब्जेक्ट ओरिएंटल का मतलब होता है कांसेप्ट ऑफ ऑब्जेक्ट और collection of data। ऑब्जेक्ट ओरिएंटल इनके बहूगुणन से संबंध रखता है।

एडवांस programming language में c++, java इत्यादि language आती है।यदि आप यह भी तय नहीं कर पा रहे हैं कि आपको कौन सी language सीखनी चाहिए, तो आपको विभिन्न भाषाओं के fundamental tutorial पढ़ने चाहिए। internet पर ऐसे कई tutorial हैं।

Python – यह एक महान smarter language है जिसका उपयोग web application और game में किया जाता है। जावा – यह कई प्रकार के कार्यक्रमों में उपयोग किया जाता है, चाहे वह game हो या web application, यहां तक ​​कि ATM software भी।

python language



HTML – यह किसी भी वेब डेवलपर के लिए एक आवश्यक प्रारंभिक स्थान है। सी – सबसे पुरानी languages में से एक है, C एक बहुत शक्तिशाली उपकरण है, और इसके अलावा यह कई आधुनिक languages जैसे कि C ++, C #, और objectives-सी का आधार है।

html and css basic language



हमेशा पहले LANGUAGE की मूल भाव को समझने की कोशिश करें. सभी के पास कुछ मुख्य अवधारणाएं हैं, जिन्हें समझना बहुत महत्वपूर्ण है।

क्योंकि programming language की मूल अवधारणाओं से ही, आपकी उस भाषा पर मजबूत पकड़ होगी।

सभी software स्थापित करने केलिए programming language में compiler की आवश्यकता होती है, जो ऐसे प्रोग्राम हैं जिन्हें code को एक ऐसी भाषा में अनुवाद करने के लिए डिज़ाइन किया गया है जिसे मशीन समझ सकती है।

अन्य language में, जैसे python, collection के बिना प्रोग्राम को execute करने के लिए translator की आवश्यकता होती है। कुछ भाषाओं के लिए IDEs (Integrated Development Environment) की आवश्यकता होती है, जिसमें code editor, compiler, collection और debugger जैसे सब कुछ होता है।

यह programmer को सभी आवश्यक कार्य एक ही स्थान पर करने की अनुमति देता है। एक समय में एक अवधारणा पर ध्यान दें किसी भी programming language में पहला कार्यक्रम “hello world” प्रोग्राम है। यह एक बहुत ही simple program है जो “hello world” screen के ऊपर text show करता है।

यह process कई new programmer को सिखाता है कि मूल कार्यक्रम के syntax कैसे बनाएं, साथ ही output को कैसे show करे।

आप अपने program में परिवर्तन करके इसके output का परीक्षण कर सकते हैं। क्योंकि इस तरह के experiments से, इस programming को बेहतर तरीके से समझा जाता है।

यह जान लें कि error द्वारा कई बातों को समझा जा सकता है। शायद ही कोई हो जो एक ही बार में programming language का मास्टर बन सके। केवल बार-बार experiment करने से ही आप इसमें success प्राप्त कर सकते हैं।

programming में error बहुत आम हैं लेकिन इससे भी महत्वपूर्ण यह है कि आप उन बगों को कैसे ढूंढते हैं और ठीक करते हैं।

इन error या bugs को ठीक करना BUGGING कहलाता है। जैसा कि आप program के साथ experiments करना शुरू करते हैं, तो आपको मूल रूप से error के बारे में पता चल जाएगा और आप error को solve करने में भी सक्षम होंगे।

programming एक skill की तरह है, जितना अधिक आप इसका practice करेंगे, उतना ही आप इसमें पारंगत होते जाएंगे। इसलिए दिन में 1 से 2 घंटे बिताने की कोशिश करें। अपने कार्यक्रमों के लिए लक्ष्य निर्धारित करें ऐसे लक्ष्य निर्धारित करें ताकि आप उन्हें पूरा कर सकें।

यदि आप practice करेंगे तो आप निश्चित रूप से उन problems को हल करने में सक्षम होंगे। यह आपके लक्ष्यों को पूरा करने की प्रतिस्पर्धी भावना को जगाएगा, जो आपको लक्ष्यों को पूरा करने के लिए एक नई प्रेरणा देगा।

यदि आप वास्तव में प्रोग्रामिंग सीखना चाहते हैं, तो आपको same communities को found करना होगा और उन में participate और उनसे बात करना होगा programming के बारेमे।

यह आपके सीखने को बहुत बढ़ावा दे सकता है। आप दूसरों के साथ बातचीत करके उनके code से बहुत कुछ सीख सकते हैं। जो आपकी concepts को और भी clear कर देगा। programming forum और online communities से जुड़ने का प्रयास करें।

केवल सवाल न पूछकर अन्य उत्तर देने की कोशिश करें, इससे आपकी समस्या सुलझाने की क्षमता में वृद्धि होगी।

एक बार जब आपका अनुभव स्तर बढ़ जाता है, तो आप hack- a-thon या programming jam जैसी बहुत सी competition में participate कर सकते हैं।

अपने आप को चुनौती दें उन चीजों को करने की कोशिश करें जिन्हें आप नहीं जानते हैं, जिससे बहुत सी नई चीजें सीखने को मिल सकती हैं। ऐसी चीजों को करने के कई तरीके खोजने की कोशिश करें, ताकि आपको बहुत सी नई चीजें जानने को मिलेंगी।

कुछ नए training course सीखना चाहिए कई university, college programming classes कराते हैं, जिन्हें आप चाहें तो सीख सकते हैं। इससे जुड़कर आपको नए new course की सुविधा मिलेगी।

नई किताबें खरीदें या लाइब्रेरी से प्राप्त करें कई programming books internet पर और offline store में उपलब्ध हैं। ऐसे में अगर आपको programming language सीखनी है तो आपको ये किताबें खरीदनी पड़ सकती हैं, इससे आपको concept समझने में आसानी होगी।

गणित और तर्क जानें maximum programming में basic arithmetic को समझना महत्वपूर्ण है, क्योंकि इससे उन्नत concepts को समझना आसान हो जाता है। इससे जटिल सिमुलेशन और अन्य algorithm program को समझना आसान हो जाता है।

इसके लिए advanced mathematics की आवश्यकता नहीं है, बल्कि इसे basic arithmetic की समझ होनी चाहिए, इसके अलावा तर्क की समझ बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि यह जटिल problems को solve करने के लिए समाधान पैदा करता है। और साथ में आप उन्हें आसानी से हल कर सकते हैं।

आप कुछ freelancing काम भी कर सकते हैं, विशेष रूप से मोबाइल ऐप डेवलपर्स के लिए इंटरनेट पर एक बहुत बड़ा freelancing website उपलब्ध है। यदि आप चाहें, तो आप एक छोटे freelancing job के साथ शुरुआत कर सकते हैं।

यह आपको बताएगा कि commercial programming कैसे काम करती है। इससे लोग काम कर सकते हैं और अच्छी कमाई कर सकते हैं।

अपने खुद के program और application बना सकते हैं, यदि आप प्रोग्रामिंग जानते हैं तो आप एक company में काम कर सकते हैं, यदि आप एक software developer चाहते हैं या यदि आप कुछ करना चाहते हैं, तो आप program और app भी विकसित कर सकते हैं।

इससे आप अपने skill का पूरा use कर सकते हैं। इससे आप पूरा लाभ कमा सकते हैं। साथ में आप अपने product को स्वयं बनाते हैं ताकि यदि आप इसे बेचना चाहते हैं, तो आप ऐसा कर सकें। आप चाहें तो एक team बनाएं और एक software company भी बना सकते हैं.

Conclusion

आज हमने इस आर्टिकल में c programming language के बारे में पूरी जानकारी दी है। उम्मीद करता हूं कि यह article पूरा पढ़ने के बाद आपको इससे related सभी सवालों का जवाब मिल गया होता।

फिर भी यदि कोई सवाल आपके जहन में है। तो अप हमें comment box के जरिए पूछ सकते हैं।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *