Advocate कैसे बने?

हर कोई व्यक्ति अपने जीवन में सफल होना चाहता है और जब व्यक्ति school की पढ़ाई कर रहा होता है। तब अपने future से संबंधित कई सपने हर students के मन में होते हैं।

हर students पढ़ लिखकर एक बड़ा आदमी बनना चाहता है और जीवन में अपना नाम रोशन करना चाहता है। लोगों को अपनी रूचि के अनुसार अलग-अलग बनने की एक जिज्ञासा होती है। जैसे कुछ students को engineer बनना पसंद है।

तो कोई विद्यार्थी doctor बनना चाहते हैं। कई विद्यार्थी lawyer बनना चाहते हैं।

lawyer बनना कोई बड़ी बात नहीं है। हर कोई व्यक्ति आसानी से lawyer बन सकता है। lawyer बनने के लिए entrance exam पास करने जरूरी है उसके पश्चात कोई भी सरकारी भर्ती में आवेदन करने की आवश्यकता नहीं है।

lawyer सरकारी पद नहीं होता है। हालांकि यह कोर्ट में कार्यरत रहता है लेकिन वकील की सैलरी सरकार नहीं देती है। वकील बनने के लिए LLB योग्यता होना जरूरी है। उसके पश्चात ही आप COURT में lawyer के रूप में कार्यरत हो सकते हैं।

आज हम इस आर्टिकल में आपको advocate कैसे बनते हैं, इसके बारे में बात करेंगे।

Advocate क्या है ?

advocate यह एक अंग्रेजी शब्द है। इसे हिंदी में वकील कहते हैं। वकील मुख्य रूप से कोर्ट में मुजरिम या मुकदमा कर्ता की ओर से बात को मजिस्ट्रेट तक पहुंचाता है।

वकील का कार्य अपने client की जानकारी magistrate तक पहुंचाकर इंसाफ दिलाना होता है। छोटे से लेकर बड़े court से संबंधित सभी कार्य में lawyer को खड़ा करना पड़ता है।

LLB क्या है?

एलएलबी एक प्रकार से वकालात का कोर्स है। एलएलबी शब्द लैटिन शब्द है। इस शब्द का प्रयोग वकालत की bachelor degree के लिए किया गया है।

12वीं कक्षा पास करने के बाद भारत के कानून के बारे में यदि कोई व्यक्ति अधिक जानकारी हासिल करना चाहता है या लॉयर बनना चाहता है।

तो उसके लिए LLB की degree हासिल करना एक बेहतरीन विकल्प रहेगा इस degree की पढ़ाई करते वक्त विद्यार्थी को कानून के बारे में संपूर्ण जानकारी सिखाई जाती है और वकील कैसे बना जाता है।

llb course- advocate kaise bane

यह जानकारी इस degree को लेने के बाद आपको मिल जाएंगे। lawyer बनने के लिए एलएलबी की डिग्री जरूरी है।

हमारे देश के वकील, law के बारे में सब कुछ जानते हैं, इसलिए यदि हम किसी कानूनी चीज़ के बारे में जानकारी चाहते हैं, तो हम आपको एक वकील कह सकते हैं, एलएलबी की पढ़ाई करने के बाद, आप एक वकील बन जाते हैं, इसके बाद आप अदालत में judge भी बन सकते हैं।

LLB का selection दो प्रकार का होता है एक चले बस जो 5 वर्ष का होता है और दूसरा selection जो 3 वर्ष का होता है यदि कोई students exam pass करने के बाद law college में admission लेना चाहता है तो उस विचार जी को 5 साल की LLB COURSE की पढ़ाई करनी होगी लेकिन यदि कोई व्यक्ति graduation करने के बाद LLB करना चाहता है तो ऐसे में 3 साल का कोर्स करके student lawyer बन सकता है।

यदि students ने पहले से graduation की है तभी आप 3 साल का LLB चुन सकते हैं बेशक, इसलिए यदि आप एक lawyer बनना चाहते हैं, तो इसके लिए आपके पास कुछ qualification होनी चाहिए। इस योग्यता को जानें, जो (LLB कोर्स के लिए educational qualification) LLB course के लिए शिक्षा योग्यता है।

Advocate कैसे बनें?

अब जब आपने यह जान लिया है कि LLB course क्या है, इसे करने का क्या result है और हमें किस educational qualification के लिए कानूनी वकील बनना चाहिए, तो आइए अब जानते हैं कि advocate कैसे बनें (advocate) एक वकील बनने की पूरी जानकारी advocate कैसे बनें वकील कैसे बनें

12TH कक्षा पूरी करें लॉ की पढ़ाई करने के लिए सबसे पहले आपको 12 वीं तक का स्कूल पूरा करना होगा।

आप किसी भी विषय के साथ study कर सकते हैं चाहे वह कला हो या commerce या science विषय, यदि आप कला का study करते हैं तो आपको अधिक लाभ होगा। इस विषय में आपको कुछ degree law के बारे में भी बताया जाता है।

अब लॉ college में प्रवेश के लिए प्रवेश exam दें जैसे ही आप 12 वीं की exam पास करते हैं और इसके बाद, यदि आप लॉ या लॉ की पढ़ाई करना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको भारत में entrance exam देनी होगी.

All India Level Select परीक्षा काफी लोकप्रिय है, जिसके full name Common Law Admission Test: इस एग्जाम को देने के बाद आप लॉ कॉलेज में एडमिशन ले सकते हैं, जो पूरे 5 साल का कोर्स है। इस entrance exam में सभी लोगों के लिए एक समान परीक्षा है, जो भी law

common law admission test for advocate



इसमें आपसे अंग्रेजी, तार्किक तर्क, कानूनी योग्यता, गणित और सामान्य जागरूकता के बारे में सवाल पूछे जाते हैं। CLAT प्रवेश परीक्षा में बैठने के लिए, आपको 50% अंकों के साथ कम से कम 12 वीं पास होना चाहिए।

साथ ही आपकी उम्र 20 age से अधिक नहीं होनी चाहिए, तभी आप इस exam, में बैठ सकते हैं और इस प्रवेश exam के अलावा भी कुछ कर सकते हैं। ऐसे कॉलेज भी हैं जो आपको एक अलग law प्रदान करते हैं।

Symbiosis law school, national law university, delhi और jindal global law school हैं। ये सभी Law School Admission Test के अंतर्गत आते हैं, जिनकी exam आपके द्वारा दी जाती हैं। आप पढ़ाई करके advocate बन सकते हैं

law school admission test- advocate kon hai


अब law की पढ़ाई करने के बाद internship करें जैसा कि हम सभी जानते हैं कि किसी भी चीज का अध्ययन करने के बाद, हमें उसके ज्ञान के लिए internship करना बहुत ही जरुरी होता है, इसी तरह law school से पढ़ाई पूरी करने के बाद, आपको internship करनी होगी।

इस internship के दौरान, आपको court कचेरी के बारे में सब कुछ पता चल जाएगा। यह सिखाया जाता है कि court की सुनवाई कैसे की जाती है, दो advocate किस पार्टी की वकालत करते हैं, इसलिए आपको internship करनी चाहिए।

अब State Bar Council के लिए Enrollment करें internship के बाद, किसी भी राज्य बार काउंसिल में खुद को नामांकित करना बहुत महत्वपूर्ण है, इसमें Enroll करने के बाद, आपको अखिल भारतीय बार परीक्षा (All India Baar Examination) को clear करना होगा, जिसे भारतीय काउंसिल आपके द्वारा क्लियर करने के बाद ही आयोजित किया जाता है, आपको एक certificate मिलता है. इस तरह से आपका LLB course यानी advocate बनने का कोर्स पूरा हो जाएगा, इस कोर्स के बाद आप अपना अभ्यास जारी रख सकते हैं या जारी रख सकते हैं।

all india bar examination for advocate

पढ़ाई में LLM यानी master in law course कर सकते हैं।

advocate बनने की योग्यता एक वकील के लिए या इसका अध्ययन करने के लिए, आपके पास कुछ educational qualification होनी चाहिए, तभी आप law का study कर सकते हैं। आइए जानते हैं कि advocate बनने के लिए हमें किस qualification की आवश्यकता है।

  • यदि आप 12 वीं के बाद कानून का study करना चाहते हैं, तो आपके पास 12 वीं पास का certificate होना चाहिए, जो 5 year के लिए होगा।
  • यदि आप 12 वीं के बाद law का study करते हैं, तो आपके 12 वीं में कम से कम 50% अंक होने चाहिए।
  • यदि कोई व्यक्ति advocate बनना चाहता है तो इसके लिए उस व्यक्ति के पास Bachelor’s degree होना जरूरी है
  • अगर आप college की पढ़ाई करने के बाद लॉ की पढ़ाई करना चाहते हैं, तो इसके लिए आपके graduation में कम से कम 50% होने चाहिए।

निष्कर्ष

Session court से लेकर high court तक advocate की जरूरत रहती है और आज हमने इस article में advocate कैसे बनते हैं। इसके बारे में संपूर्ण जानकारी दी है।

उम्मीद करता हूं, कि यह article पूरा पढ़ने के बाद आपको advocate कैसे बनते हैं। इसके बारे में संपूर्ण जानकारी मिली होगी। इस article से संबंधित यदि कोई व्यक्ति को कोई सवाल है। तो आप हमें comment box के जरिए पूछ सकते हैं।

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *