Operating System क्या है और क्या काम करता है?

computer आज के समय में बढ़ता जा रहा है। कंप्यूटर के उपयोग के कारण ही टेक्नोलॉजी का इतना विकास संभव हुआ है। कंप्यूटर में एक operating system लगा होता है। जिसे कंप्यूटर का दिल कहते हैं।

जब भी कोई व्यक्ति computer या मोबाइल का इस्तेमाल करता है। तो हमेशा आप एक शब्द का उपयोग जरूर करते हैं। जैसे:- एंड्राइड, विंडोज, मेंक Linux etc. यह सभी नाम ऑपरेटिंग सिस्टम के हैं।

Computer Operating System

उदाहरण के तौर पर android Kit Kat या android Oreo इत्यादि ऑपरेटिंग सिस्टम के सब नाम है। विंडोज में बात की जाए तो विंडोज में विंडो 10, विंडो 7, विंडो 8 इत्यादि नाम आपने अवश्य सुने होंगे।

वैसे ही मैकबुक में भी अलग अलग ऑपरेटिंग सिस्टम के अलग-अलग नाम रखे गए हैं।

कंप्यूटर का ऑपरेटिंग सिस्टम computer का ह्रदय कहलाता है और इस हृदय का कंप्यूटर में क्या काम होता है। इसके बारे में आज हम आपको इस article के माध्यम से बताएंगे।

कंप्यूटर का operating system क्या है और यह कैसे काम करता है। यह जानने के लिए इस आर्टिकल को अंत तक पूरा पढ़ें।

Operating System क्या है

ऑपरेटिंग सिस्टम को दूसरी भाषा में सॉफ्टवेयर भी कहा जाता है। ज्यादातर लोग OS के नाम से भी बुलाते हैं। यह कंप्यूटर का हृदय है।

operating system एक प्रकार का सॉफ्टवेयर है। जो यूजर के hardware और इंटरफेस के बीच में काम करता है।

उदाहरण के तौर पर गाना सुन रहे हो, साथ में वर्ड documents का काम भी कर रहे हो और इसके अलावा विंडो में तीन-चार टैब खोल कर बैठे हो या कीबोर्ड का कुछ काम कर रहे हो यह सारे काम computer operating system के बिना करना असंभव है।

computer के कार्य करने की क्षमता तथा कार्य करने की स्पीड भी कंप्यूटर में लगे ऑपरेटिंग सिस्टम पर डिपेंड करती है। इसलिए आपने अक्सर देखा होगा। जब कोई भी व्यक्ति नया computer खरीदना है।

तो विंडो एक विंडो टेन इत्यादि लेटेस्ट operating system लेना चाहता है। ताकि फ्यूचर में कार्य करने का लोड कंप्यूटर आसानी से झेल सकें और बेहतर ऑपरेटिंग सिस्टम लगे होने के कारण कंप्यूटर में काम करने की गति तीव्र रहे।

computer का operating system हर प्रकार के कार्य जैसे:- गेम, एमएस वर्ड,एडोब रीडर, वीएलसी मीडिया प्लेयर इत्यादि बहुत से सॉफ्टवेयर को चलाने में मदद करता है। मोबाइल में बी ऑपरेटिंग सिस्टम लगा होता है। जिसे एंड्रॉयड के नाम से जाना जाता है।

Operating System के नाम

What is the Most Used Operating System ? - wikigain

operating system के द्वारा अलग-अलग कार्य के आधार पर ऑपरेटिंग सिस्टम की पहचान है। जैसे:-

  • Microsoft Windows
  • Google’s Android OS
  • Apple iOS
  • Apple macOS
  • Linux Operating System

यह सभी operating system लोकप्रिय है और बड़ी operating system कंपनियों के नाम है। वैसे तो इनके अंदर बहुत सारे अलग-अलग नाम आते हैं और ज्यादातर लोग इन्हीं नामों से ऑपरेटिंग सिस्टम को याद रखते हैं।

Operating System के कार्य

कंप्यूटर के operating system के कार्य की बात की जाए, तो लगभग सारे कार्य computer में operating system के माध्यम से ही संपन्न होते हैं।

लेकिन जब आप computer को ऑन करते हैं। तब operating system में मेमोरी मतलब रेम में लोड हो जाता है और उसके बाद यूजर software को कोने-कोने से hardware इन सभी को एलोकेट करता है। computer के operating system के कई मुख्य कार्य है, जो नीचे दिए गए हैं।

  1. Memory Management

कंप्यूटर के operating system का सबसे पहला काम मेमोरी managemenet का होता है। मेमोरी managemenet का सीधा सा अर्थ यह है। कि प्राइमरी और सेकेंडरी मेमोरी को किस तरह से मैनेज करना है। यह कार्य operating system द्वारा संपन्न किया जाता है।

मेमोरी के अंदर बहुत सारे data सेव रहते हैं और इस मेमोरी में कई अलग-अलग छोटे-छोटे खाते होते हैं। जहां पर हर एक खाते का address होता है।

मैं मेमोरी सबसे तेज चलने वाली मेमोरी होती है। जो चीजों से डायरेक्ट कनेक्ट होती है और डायरेक्ट operating system द्वारा की जाती है सीपीयू द्वारा चलाए गए, सभी प्रोग्राम जो मेमोरी के अंदर सेव रहते हैं।

कंप्यूटर के operating system द्वारा ही हर प्रकार के कार्य को कितना स्टोरेज दिया जाना चाहिए और कितना नहीं यह निर्धारित किया जाता है।

computer के operating system द्वारा हर प्रकार के कार्य को मेमोरी किया जाए और इस कार्य को कितना मेमोरी किया जाए इसका डिसीजन भी operating system ही लेता है।

जब कोई भी कार्य आप कंप्यूटर में करते हैं और वह कार्य मेमोरी की मांग करता है। तो operating system उसे मेमोरी दे देता है और काम खत्म होने के बाद operating system अपनी मेमोरी वापस ले लेता है।

  1. Processor Management

computer की ऑपरेटिंग सिस्टम द्वारा multi programming कार्य भी किया जाता है। multi programming पर्यावरण की बात की जाए, तो यह डिसीजन operating system करता है।

कि प्रदेश को प्रोसेसर मिलेगा और इस कार्य को कितना प्रोसेसर और कितना समय मिलेगा यह भी ऑपरेटिंग सिस्टम द्वारा निर्धारित किया जाता है।

किसी भी कार्य को प्रोसेस होने में कितना टाइम लगेगा यह operating system निर्धारित करता है।

इसके अलावा operating system जानकारी देखता है। कि प्रोसेसर काम कर रहा है या नहीं कर रहा है। अगर काम कर रहा है, तो कितने काम साथ में कर रहा है। हर प्रकार के कार्य का पूरा शेड्यूल आप टास्क manager में जाकर देख सकते हैं।

जब यह काम खत्म हो जाता है। तब operating system प्रोसेस को दूसरे काम में लगा देता है और कुछ काम नहीं होने पर प्रोफेसर को फ्री कर देता है। यह कार्य भी operating system द्वारा निर्धारित किया जाता है।

  1. Device Management

आपकी computer में ड्राइव का इस्तेमाल तो होता है। यह आपको पता ही होगा। उदाहरण के तौर पर साउंड ड्राइव, ब्लूटूथ ड्राइव, वाईफाई ड्राइव इत्यादि। इसी प्रकार के अन्य डिवाइसों के इनपुट और output management का कार्य भी ऑपरेटिंग सिस्टम द्वारा ही किया जाता है।

सभी computer device को operating system ट्रैक करके उन्हें कंप्यूटर कनेक्ट करता है। साथ ही प्रिंटर इत्यादि device management का कार्य operating system द्वारा ही किया जाता है। और कार्य खत्म होने के बाद device को डी लोकेट करने का कार्य ऑपरेटिंग सिस्टम द्वारा किया जाता है।

  1. Security

security से संबंधित हर प्रकार के कार्य ऑपरेटिंग सिस्टम द्वारा ऑपरेट किए जाते हैं। जब आप कंप्यूटर को ऑन करते हैं, तो आपको password पूछा जाता है।

यह आपके operating system के द्वारा कंप्यूटर को सुरक्षित रखने के लिए बेहतरीन फीचर्स उपलब्ध करवाया जाता है और कई ऐसे प्रोग्राम को बिना password ओपन नहीं कर सकते हैं। यह भी operating system ही निर्धारित कर सकता है।

  1. File Management कंप्यूटर में बहुत सारी फाइलों को एक साथ संगठित रूप में सेव करके रखा जाता है। क्योंकि हमको पता है, कि हम आसानी से फाइल को ढूंढ सकते हैं।
  2. फाइल मैनेजमेंट का यह कार्य ऑपरेटिंग सिस्टम के द्वारा किया जाता है और operating system की मदद से ही हम फाइल की इंफॉर्मेशन लोकेशन और status के बारे में जान सकते हैं।
  3. Error बताना

computer द्वारा कई प्रकार के कार्य मैं error जाते हैं या कई बार system में बहुत सारी error जाते हैं। उन सभी error को ऑपरेटिंग सिस्टम detect करके वापस रिकवर करने का कार्य करता है।

  1. System Performance देखना

computer के कार्य करने की प्रसार में तथा सिस्टम को इंप्रूव करने और बेहतरीन सर्विस देने का कार्य ऑपरेटिंग सिस्टम द्वारा किया जाता है। ऑपरेटिंग सिस्टम सर्विस देने में कितना समय लगाता है इसका रिकॉर्ड भी रखता है।

निष्कर्ष

operating system के बिना computer का चलना असंभव है। कंप्यूटर के हर एक कार्य को operating system द्वारा संपन्न किया जाता है।

अलग-अलग कंप्यूटर में अलग-अलग ऑपरेटिंग सिस्टम लगे होते हैं और इन्हीं ऑपरेटिंग सिस्टम के आधार पर कंप्यूटर के कार्य करने की क्षमता और स्पीड का पता चलता है।

हमारे द्वारा आज इस article में operating system क्या होता है और operating system का क्या कार्य है। इसके बारे में पूर्ण जानकारी दी गई है उम्मीद करता हूं, कि हमारे द्वारा डाला गया यह article आपको पसंद आया होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *